सवालो के घेरे में मोदी सरकार: नोट छपने 6 महीने पहले शुरू तो उस पर उर्जित पटेल के दस्तखत कैसे

0
2609
नोट

कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के मध्य प्रदेश प्रभारी मोहन प्रकाश ने पीएम मोदी के इस दावे पर सवाल उठाते हुए कहा कि नए नोट छापने की प्रक्रिया छह महीने पहले ही शुरू कर दी गई थी। उन्होंने कहा कि यदि ये सही है तो नए नोट पर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर के तौर पर उर्जित पटेल के दस्तखत कैसे हैं, जबकि उन्होंने तो यह जिम्मेदारी इसी साल सितंबर में संभाली है।

मध्य प्रदेश के नेपानगर विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार करने से पहले इंदौर पहुंचे मोहन प्रकाश ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा, देश को संकट में डालकर प्रधानमंत्री आनंदित महसूस कर रहे हैं। फैसले के बाद वे जापान चले गए। सरकार गरीब को चोर साबित करने पर तुली है। हम अपना ही पैसा बैंक से नहीं निकाल सकते हैं। जो महिलाएं बचत कर घर में राशि रखती हैं वो कैसे काला धन हो गया। उन्होंने सवाल उठाया कि प्रधानमंत्री का 12 लाख का कोट क्या सफेद पैसे का था जो बाद में वह चार करोड़ रुपए में बिका था।

मोहन प्रकाश ने प्रधानमंत्री मोदी के साथ विदेश यात्राएं करने वाले उद्योगपतियों पर भी सवाल उठाया और कहा कि कालेधन के जो दोषी हैं, वे तो प्रधानमंत्री के साथ विदेशों में घूमते हैं और देश का मेहनतकश, गरीब आदमी कई दिनों से समस्याएं झेल रहा है। उनके पास खाना खाने तक के पैसे नहीं हैं।

एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि मोदी सरकार अपनी असफलताओं को छिपाने के लिए 99 फीसदी जनता को कष्ट देने का काम कर रही है। कांग्रेस उन लोगों की मदद कर रही है जो कतार में परेशान हो रहे हैं। संसद में कांग्रेस इस मुद्दे पर जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका निभाएंगी।

आम आदमी पर दोहरी मार: सब्जियां लोगों तक न पहुंचने के कारण सड़ने की कगार पर, महँगाई बढ़ने के आसार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here