यूएन में भारत ने पाकिस्तान के आरोपों का दिया कड़ा जवाब

0
71

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के आधारहीन आरोपों को भारत ने 73वें संयुक्त राष्ट्र आमसभा में खारिज कर दिया। शनिवार को भारत ने कुरैशी के आरोपों को पुरानी शक्ल में नया पाकिस्तान करार दिया है। जवाब देते हुए भारत ने पाकिस्तान द्वारा लगाए गए आरोपों को अपमानजनक और उपहासपूर्ण बताया। भारत की तरफ से युवा राजनयिक इनम गंभीर ने पाक विदेश मंत्री के आरोपो का कड़ाई से जवाब दिया।

इनम ने कहा, ‘आज सुबह हमारा प्रतिनिधिमंडल इस सभा में पाकिस्तान के नए विदेश मंत्री और उनके नए पाकिस्तान को लेकर नजरिए को सुनने के लिए पहुंचा था। जो हमने सुना उससे लगता है कि यह पुरानी शक्ल में नया पाकिस्तान हमारे सामने है।’ संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी सदस्य सैयद अकबरुद्दीन ने मिस गंभीर के संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में दिए बयान के वीडियो क्लिप को ट्वीट किया। वह यूएन में भारत के स्थायी मिशन की पहली सचिव हैं।

गंभीर ने कुरैशी के उस बयान का जिक्र किया, जिसमें उन्होंने भारत पर पेशावर स्कूल में हुए हमले में शामिल होने का आरोप लगाया था। इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा, ‘चार साल पहले पेशावर स्कूल पर हुए भयानक आतंकवादी हमले का आरोप लगाना निरर्थक है। मैं पाकिस्तान की नई सरकार को बताना चाहती हूं कि 2014 में निर्दोष बच्चों के संहार पर भारत को बहुत दुख और तकलीफ हुई थी। संसद के दोनों ही सदनों ने मारे गए बच्चों के सम्मान में एकजुटता व्यक्त की थी। उनकी याद में भारत के सभी स्कूलों में दो मिनट का मौन रखा गया था।’

इनम गंभीर ने आगे कहा कि पाकिस्तान की यह कोशिश आतंक के राक्षसों से अपना मुंह मोड़ने की है। जिन्हें उसने खुद अपने क्षेत्र में पड़ोसियों को अस्थिर करने के लिए पनाह दी हुई है। कश्मीर पर दिए पाकिस्तान के बयान का जवाब देते हुए गंभीर ने कहा, ‘मैं पाकिस्तान की नई सरकार को यह साफ कर देना चाहती हूं कि जम्मू और कश्मीर का पूरा राज्य भारत का अभिन्न अंग है।’ पाकिस्तान के आतंकवाद से निपटने के दावों पर भारत ने कहा कि वह संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित किए गए 132 आतंकियों और 22 आतंकी संगठनों के मेजबान और संरक्षक बनने की बात से इंकार करें।

भारत ने यूएन द्वारा घोषित वैश्विक आतंकी हाफिज सईद को पाकिस्तान में मिली स्वतंत्रता पर सवाल उठाए। उसने वहां चुनावी दफ्तर खोला और अपने उम्मीदवारों को खड़ा किया। गंभीर ने कहा, ‘क्या पाकिस्तान इस बात से इंकार कर सकता है कि वैश्विक आतंकी सईद उसके देश में स्वतंत्रता का लाभ नहीं उठा रहा है। वह जहर उगलते हुए अपना चुनावी दफ्तर खोल रहा है और उसके लिए उम्मीदवारों को खड़ा कर रहा है।’ उन्होंने कहा कि विश्व को मानवाधिकार समझाने के बारे में बताने से पहले पाकिस्तान को इसकी शुरुआत अपने घर से करनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here