एक मुसलमान की ज़ुबानी: मैं मोदी को क्यूँ नहीं पसंद करता..और वोह गुजरात दंगों के कारण मोदी को अच्छा समझते है

21
86608

मुझे याद है दोपहर का वक़्त था समाचार में देखा कि गुजरात में कहीं किसी ट्रेन में आग लग गयी है. कुछ देर बाद और ख़बर आई कि गोधरा नाम के किसी शहर में साधुओं से भरी ट्रेन में आग लगा दी गयी. मैं बचपन से ही धार्मिक रहा हूँ इसलिए मुझे दुःख और ज़्यादा हुआ और दिल से एक आवाज़ आई और जो लोग मरे थे उनके लिए दुआ मांगी. कुछ देर बाद ये हुआ कि गुजरात के मुख्यमंत्री ने लोगों को मुआवज़ा देने का एलान किया. ये एक तसल्ली की बात थी.

शाम के बाद से ये ख़बर आने लगी कि कहीं गोधरा की वारदात को लेकर दो गुटों में झड़प हुई है, किसी ने किसी को चाक़ू मार दिया. फिर ये ख़बरें बढ़ गयीं और एक ख़तरनाक माहौल तय्यार हो गया. सुबह शाम हम टीवी से लगे रहते थे, ये पता करने के लिए कि कब ये ख़त्म होगा. शाम को टीवी पे बहसें आती थीं,हम देखते थे…मैं उन बातों को नहीं दोहराना चाहता, ये ज़रूरी नहीं है लेकिन एहसान जाफ़री के क़त्ल ने शायद बची खुची सभी उमीदों पर मिटटी डाल दी थी. मुझे याद है मीडिया ने उस वक़्त अच्छा रोल निभाया, शायद मीडिया ने हज़ारों लोगों की जान बचा ली. ये वो दौर था जब मैं पहली बार गुजरात के मुख्यमंत्री के नाम से वाकिफ हुआ. नरेन्द्र मोदी.. मैंने उस वक़्त अटल बिहारी बाजपाई को सुना था, वो भी ख़फ़ा थे मोदी से लेकिन वो मजबूर थे. शायद ये पहली बार था जब मैंने गुजरात को क़रीब से जानने की कोशिश की लेकिन तब मुझे गुजरात जाने के नाम से चिढ़ होने लगी.

बदायूं की गलियाँ छोड़ मैं 2003 में लखनऊ आ गया, यूनिवर्सिटी में दाख़िला हो गया. यहाँ पहली बार मेरी राजनितिक बहस में मुझसे पूछा गया “अटल बिहारी पसंद है तुम्हें या नहीं..” मैंने कहा “नहीं”.
इसके बाद मेरी दोस्ती कुछ लोगों से इतनी गहरी हो गयी कि हम घर आने जाने लगे, इसी दौरान मेरी कुछ लोगों से मुलाक़ात हुई जो गुजरात दंगों की वजह से नरेंद्र मोदी को अच्छा समझते थे. मुझे जानकर बहुत हैरानी हुई…उनका कहना था “अगर गोधरा हुआ तो गुजरात दंगे भी होने चाहिए थे”,मुझसे वो न्यूटन के नियम की बात करने लगते, मैं इस बात का जवाब बस यही देता कि “तुम्हारे कहने का मतलब ये है कि जो दाऊद ने किया बम्बई में वो सही है क्यूंकि उसने भी यही बहाना दिया है कि बम्बई में दंगे हुए तो ये ज़रूरी था”. वो इस बात पर चुप हो जाता लेकिन नरेंद्र मोदी को बुरा नहीं कहता.

Facebook पेज लाइक करने के लिए क्लिक करें

खैर, ये वो लोग हैं जो 300 साल से भी ज़्यादा पहले की बातें आपको बार बार याद कराते हैं, ये आपको बताएँगे कि औरंगज़ेब ने अपने दौर में किस तरह से कितने लोग मरवाए लेकिन 2002 की बात पे तुरंत कहते हैं.. “उसे भूल क्यूँ नहीं जाते”. बात सिर्फ़ इतनी सी है कि सैंकड़ों सालों की बात कोई याद रखे और दस साल से कम की भूल जाए..ये कौन सी बात है. बहरहाल, मैं ना ही औरंगज़ेब की सच्चाई जानता हूँ और ना ही नरेन्द्र मोदी की लेकिन अगर किसी के कार्यकाल में इतना  बड़ा हत्याकांड हुआ है तो वो उसकी ज़िम्मेदारी है.

ये वो वक़्त है जब मैं किसी अच्छे कॉलेज से MBA करना चाहता था लेकिन उस लिस्ट से मैंने पहले ही आईआईएम-अहमदाबाद का नाम हटा दिया था और उसका कारण सिर्फ़ गुजरात दंगे थे, देश का सबसे अच्छा बिज़नस स्कूल लेकिन मैं उसमें पढना नहीं चाहता था.

मुझे इस बात से बड़ी उलझन होती थी कि जो लोग अपने को देशभक्त कहते हैं वो भी धर्म के नाम पे हुई इस मारकाट का समर्थन करते हैं, ऐसे लोग आम चाय की दुकानों पर, ट्रेनों में, हर जगह मिल जाते थे जो खुले आम गुजरात दंगों में हुई मारकाट की तारीफ़ करते थे.

भरी संसद में पूछ लिया ”हर बात जूमला निकली अब तो यह भी शक है क्या चाय बनानी आती है?” देखें वीडियो – पढ़िए पूरी खबर

2014 के चुनावों से पहले जब नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद की उम्मीदवारी उनकी पार्टी ने दी तो इसके पीछे भी वही बात थी. मुझसे किसी ने कहा कि मोदी ने बड़ा काम किया है गुजरात में.. जब मैंने पुछा “क्या किया है?” तो उसके पास कोई ख़ास जवाब नहीं होता था फिर मैं उससे पूछता कि जो इंसान अपने छोटे से राज्य में दंगा नहीं रुकवा पाया उसको आप कैसे अच्छा मुख्यमंत्री मानते हैं?, इस बात पे वो तुरंत कहता “गोधरा में क्या हुआ?”, मैं उसके सामने ये तर्क देता कि “भाई वो भी तो उसी की ज़िम्मेदारी थी, क्यूंकि सरकार तो केंद्र में भी बीजेपी की ही थी…” वो फिर चुप हो जाता.

एक हिन्दू लड़की है, मैं उसे बहन मानता हूँ और वो मुझे भाई मानती है.. वो एक रोज़ मुझसे कहने लगी “आप बायस्ड हैं”, मैंने कहा “ऐसा क्यूँ लगता है तुम्हें..जबकि मैं तो कई पार्टियों के पक्ष की बात करता हूँ..” वो कहती है “हाँ, लेकिन बीजेपी के पक्ष की बात कभी नहीं करते… आप बाक़ी पार्टियों पे बायस्ड नहीं हो लेकिन बीजेपी के ख़िलाफ़ हो”.. मैंने उससे कहा कि “ये तुम ठीक कहती हो लेकिन इसका एक कारण है.. और ऐसा नहीं है मैं बीजेपी के पक्ष में नहीं जा सकता लेकिन उसके लिए बीजेपी को काम करना होगा, बीजेपी मुसलमानों के ख़िलाफ़ काम करती है…हाँ अगर बीजेपी मुसलमानों के लिए भी काम करेगी, मैं उसकी बात भी करूंगा… लेकिन बीजेपी को काम करने होंगे और ये काम उसे लगातार कम से कम दो साल करने होंगे…” मैंने उसे यक़ीन दिलाने की कोशिश की कि अगर ऐसा होगा तो मैं भी बदलूंगा.

दो साल होने को आ भी गए हैं नरेंद्र मोदी की बीजेपी सरकार को लेकिन अफ़सोस के साथ मुझे ये कहना पड़ रहा है कि इस सरकार ने मुसलमानों को अपने क़रीब लाने का कोई काम नहीं किया. मुसलमानों ही के लिए क्यूँ मुझे तो नहीं पता कि इनके काम काज से कोई खुश है, हो सकता है कुछ एक लोग साध्वी प्रज्ञा और दूसरे आतंक के आरोपियों पे नरमी से खुश हो जाएँ लेकिन क्या ये किसी को रोटी दिला सकता है. मैं अभी भी इन्तिज़ार में हूँ कि ये सरकार मेरा मन बदले और मैं उनकी तारीफ़ लिखने लगूं, करने लगूं.

हम शुक्रिया अदा करते है | अरग़वान रब्बही का जिन्हों इतना खूबसूरत पोस्ट लिखा |

समाचार का मूल स्रोत
http://hindi.siasat.com/

पीएम मोदी के बचाव में अमित शाह का एक और झूट – पढ़िए पूरी खबर

Facebook पेज लाइक करने के लिए क्लिक करें

21 COMMENTS

  1. 2002 k pehle har dusre din Ahmdebad main Curfew rehta tha.
    2002 k baad 2015 main pehli baar curfew laga. (Hardik Patel ki wajah se.)
    Mana ki BJP tumhe achi nahi lagati, fir Congress kyon achi lagati hai.
    1984 k dangon main marne wale kya putle they. 4 lalh kashmiriyon ko 72 hrs main kashmeer chodane k liye majboor karne wale kaun they.
    Agar modiji aap ko Pasand nahi, toh Atalji ne kaunsa Danga karwaya tha.
    sahi baat toh yeh hai ki. aap logon ko Khangress aur curroption hi pasand hai.
    Pawan Ladha.

    • Atal g ne kargil ki pahadi Pakistan ko dena ka wada kiya tha unse.Jess aaj modi kr raha h.pm bnne se pahle me ye krdunga WO krdunga Pakistan ka.lekin sbse pahle dawat bhi Pakistan ko di.or sahi bat h jiske yug me Jo kram ho uska jimmedar WO h.to Gujarat dango ka jimmedar modi h.or 4 lakh pandit Kashmir se aaye the.apni mrzi se aaye the na ki kisi ne nikale the.kyoki Kashmir ko pandit apni shran me Lena chahte the.muslimo k sath milkr nhi rehna chahta the.or modi ne kaha Kashmir se aaye sbhi pandit Kashmir jayege.do saal ho gaye pahunchaya kisi ko ek pandit ka nam btao.ayodhya mndir bnane k liye Hindu logo se chnda ikaththa kr liya ab jakr bhi nhi dekhti bjp.aorangjeb.Muslim tha jb India me ledies ko lekr julm hota tha ye pndit logo ne sti prtha chlai thi Jo bhi jents MRTA sath 2 uski ledies ko bhi jinda jla dete the.bhagwano ko khush krne k liye ladkiyo ko mndir me diya jata tha jb pandit sex krte to Jo bchcha peda hota use chmar kehte the.shadi se pahle ladki sukhi jeevan k liye pahle mndir me sharirik seva ka yogdan deti thi jb uski shadi sfal hoti thi.ye the Hindu dhram jb ek lavye guru dronacharye k pass aaya.to guru g ne siksha dene se inkar kr diya lekin jb weh success ho gaya or bhonkte kutte ka munh band kr diya to guru dronacharye dekgkr bole koske shishye ho kon ho.jb usne sari ktha btai to gurudaksina me anghutha mang liya ye h India ka pandit yani bhramman .or munh me easa thukwaya ki chmar se hi sare bharat ka kanun likhwa diya.musalmano ne to tumhare ulte kamo me sudhar kiya h tumhari trah ulte kam nhi kiye.orto ko kinda jlana.ladkiyo ko mndiro me pandito ko khush krna.munh mt khulwao bs mera

    • Zyada lambi bat nahi karunga surf 1 sawal karunga. Congress ne dange karwaye to kya BJP ko licence milgaya dange karwane ka.? Kashmir or 1984 galat to 2002 sahi kese. ? Jab desk ki bat karo to ise Hindu Muslim sikh isai dalit me mat bato . Abi Abi prime minister ne kaha dalit ko marne se pehle muje maro. Jab akhlak ko mara 2 bhai or 1 bacChe ko marke latka diya or aaye din musalmano ko mara ja rahahe to modi ne ye kyu nahi kaha ki musalmano ko marne se pehle muje maro.
      Modi ki bhakti karna tumhare liye sahi ho sakta he hame mat sikhao modi bhakti .

    • Congress ko hum log isliye pasand krte ke agar Congress na hoti ya uski 60 year sarkar na hoti to aj iss desh ka jhanda tiranga ni hota balki bhagwa hota .. wo praya tiranga jise jang e azadi me shaheed krantikariyo ne kafan bna kr odha … use RSS hta deti sab ko pta hai jan sangh( bjp) ne tirange ko rashtriye dhwaz manne se inkar kr diya tha wo sardar patel ka danda jb pada tb in sanghiyo ne majboori me tirange ko apnaya .. aur bharat samvidhan ko mana .. bjp volvalkar ko ideology follow krti uske hisab se musalman ka iss desh par koi haq ni h… to ab tum hi btao hum aisi party ko kyu support kre jo hme Hindustani na manti ho.. mana ke Congress ne hme kuch ni diya but kbhi hmse hamari pehchan to cheen ne ki koshish …hme iss desh ka nagrik to smjha

    • Congress curruption to krti hai, kisi ek community ko target bna kr danga to ni krti na. BJP v doodh k dhule ni hai. Bhare pade h ghotale jaise harkat inke v.

  2. Kya hua shri krishna commition ki report ka kya ahasan jaaFri ki family k logo ki aankho m aankh daal kar unhe insaaf ki ummeed dila sakta hi.kya hua unn 2000 logo ka jinhe jindaa jala diya gaya.kyu insaaf nahi milta iss desh m musalmano ko kyu beef par paabandi kyu hum se naare lagaaya jaata hi bharat maata ki jai.ye jaante hue bhi k musalmaan àpne mazhab ki bahut qadr karta hi …kya hua sadhvi ko riha kar diya gaya.jo blast ki aropi thi.aaj jo kuchh ho raha hi usse khatra k aasaar Nazar aate hi..shri narendra modi koi maa k pet se terrorist nahi banaa. Aap jaise net usse terrorist banne par mazboor karte hi.jhoot bol kar kaha tha sabka saath sabka vikaas Sach to ye hi kawal ka phool sabse badi bhool

  3. tu sirf musalmaan hai or isi ke bare me sonch sakta hai……..kyoki tere aakao ne tumhe itna hi samajh diya hai.
    bharat me itne dharm hai kabhi koi or dharm ke log kyo nahi chilate hai…….”indira firoj gandhi” ne sikho ke katleyam karaye……abhi malda main jo katleyam hua……..ye sab tere dimaag main kyo nahi gusta…….modi ke sasan main ek hadsa hua……itihas gawah hai…….duniya main jaha bhi nidrdayta hui hai waha musalmano ka haath raha . …pakistan main bacho ne kya bigada tha jo unko kat dale tumhari jumaato ne………kabhi to imaan ki baat karo………………..gulfam ji kahte hai ki musalman aapne mazhab ki bahut qadar karta hai……..fir pakistan militry school main tumhara mazhab kaha tha…..jo 180 bachoo ko katt dala………mazhab ki baat mat karna gulfam ji agar khuda ki is kaynat ki ek v kadi tumhe samajh main aa jati to fir hindu-musalmaan kabhi na karte…

  4. aisi konsi party h sir jo aapko pasand h shayad congress yaa samajvadi party kyuki wo terririst ko chhod deti h kyuki wo muslim hote h sach kaha na or haan beta ji aapke dukh ko thoda km kr du ki godhra me puri train jala di gyi thi tum uski baat bhi krte bs muslim mre unki hi kyu krte h

  5. Rawan bhi aya kans bhi aya.
    Yazeed bhi aya atank ka sargana bagdadi bhi aya.

    Bekasooro ka khoon bahaya.
    Namo nishan MIT gaya unka.
    Jab bhi zulm ne ankh dikhai unse mitane wala bhi paida hua
    AB Jo log zulm karr rahe Hai hidayat le.
    Urna unka ant nikat Hai .

    Samjhdar Hai aaplog.
    Samjh gaye honge meri baat.

  6. Are bhai jab poora hindustaan rss ki aur modi ki lagayi huyi aag me jalna chahta hai to.hame kya pari hai.samjhane ki.
    Jalne do sale ko.
    Koun kahta hai mout se musalmaan darte hai.

  7. 2002 me me gujrat me hi tha.tab modi ki sarkar thi..mere samne kitne police walo ne hamare bhaiyo par goli calai..or danga karne valo ko parmisan di ki jao tunhare paas 72 gante hai..jo karna ho kar lo baaki ham sambhal lege.(yeh unhone gujrati lengveg me kaha tha.).4 mahine tak log apne gharo me kediyo ki tarha rahe kisi ke paas khane ko bhi nahi tha paani band light band kuch logh bhukhe marne lage the.kahi nikal bhi nahi sakte the..tab modi kaha gay the.BJP.ka niyam hai dange karao or elecson jito..me hamare hindu bhaiyo ko bura nahi keh raha lekin aaga kar raha hu ki yeh sarkar jo tumhar vot benk ka istemal kar rahi hai use samjo..BJP sirf ambani or adani ke siva kisi ki nahi hui.hai..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here