महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का 76 साल की उम्र में निधन, 55 साल से थी ये लाइलाज बीमारी

0
180

नई दिल्ली: सदी के मशहूर वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का 76 की उम्र में निधन हो गया. उन्हें एमियोट्रोफिक लेटरल स्क्लेरोसिस नाम की बीमारी थी जो मोटर न्यूरोन बीमारी का एक प्रकार है. यह एक लाइलाज बीमारी थी, जिस वजह से स्टीफन का पूरा शरीर पैरालाइज था, लेकिन दिमाग एक्टिव था. इसी कारण वो हमेशा व्हीलचेयर पर ही रहते थे. हॉकिंस 1963 में मोटर न्यूरॉन बीमारी के शिकार हुए और डॉक्टरों ने कहा कि उनके जीवन के सिर्फ 2 साल बचे हैं. लेकिन वह पढ़ने के लिए कैम्ब्रिज चले गये और एल्बर्ट आइंस्टिन के बाद दुनिया के सबसे महान सैद्धांतिक भौतिकीविद बने. स्टीफन का ब्लैक होल और बिग बैंग सिद्धांत को दुनिया को समझाने में अहम योगदान रहा है. इसी के चलते उन्हें अमेरिका के उच्च नागरिक का सम्मान भी दिया गया. लंबे वक्त से अस्वस्थ चल रहे स्टीफन की गिनती विश्व के महान भौतिक वैज्ञानिकों में होती है. नोबल पुरस्कार से सम्मानित स्टीफन का जन्म 8 जनवरी, 1942 को यूनिइटेड किंगडम में हुआ था. शारीरिक अक्षमता के बावजूद वे विश्व के सबसे बड़े वैज्ञानिक माने गए. स्टीफन की जिंदगी, उनकी थ्योरी और किताबों पर कई फिल्में बन चुकी है.  स्टीफन के पिता फ्रेंक ने आयुर्विज्ञान और माता इसाबेल ने दर्शनशास्त्र, अर्थशास्त्र और राजनीति में शिक्षा प्राप्त की. दोनों की शिक्षा ऑक्सफ़र्ड विश्वविद्यालय में हुई. स्टीफन हॉकिंग ने अपने जीवन में 12 डिग्रियां लीं.स्टीफन ने क्वांटम ग्रेविटी और ब्रह्माण्ड विज्ञान के अध्ययन के अलावा ‘अ ब्रीफ हिस्ट्री ऑफ टाइम’ नाम की किताब भी लिखी, जो बेस्टसेलर रही. स्टीफन हॉकिंग को उनके कामों के लिए 1979  में अलबर्ट आइंस्टाइन मेडल, 1982 में द ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर (कमांडर) और 1988 में भौतिक विज्ञान में वॉल्फ प्राइज से सम्मानित किया गया.

बयान के मुताबिक, ‘वह एक महान वैज्ञानिक और अद्भुत व्यक्ति थे जिनके कार्य और विरासत आने वाले लंबे समय तक जीवित रहेंगे। उनकी बुद्धिमतता और हास्य के साथ उनके साहस और दृढ़- प्रतिज्ञा ने पूरी दुनिया में लोगों को प्रेरित किया है.’ ‘उन्होंने एक बार कहा था, अगर आपके प्रियजन ना हों तो ब्रह्मांड वैसा नहीं रहेगा जैसा है। हम उन्हें हमेशा याद करेंगे.’ दुनिया के सबसे प्रसिद्ध भौतिकीविद और ब्रह्मांड विज्ञानी पर2014 में ‘थ्योरी ऑफ एवरीथिंग’ नामक फिल्म भी बन चुकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here