बढ़ती उम्र को मात देता हैं ये तेल , जानिए इसकी और भी खूबियां….

0
43

अपनी उम्र से कम दिखना सिर्फ महिलाओं की ही नहीं बल्कि पुरुषों की भी ख्वाहिश होती है। अगर आप भी बढ़ती उम्र के असर को कम करना चाहते हैं तो इस खास फूल का तेल आपकी मदद कर सकता है।जी हां और यह फूल है सरसों का। इस फूल का तेल खाने में स्वाद बढ़ाने के साथ- साथ आपकी सेहत को भी बनाए रखने में आपकी मदद करता है। आयुर्वेद के अनुसार सरसों का तेल कई बीमारियों का इलाज करने में बेहतर मन गया है।

-गठिया

गठिया और कान के दर्द में सरसों का तेल इस्तेमाल करने से इसके दर्द में राहत मिलती है।

-मोटापा

अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो सरसों के तेल को अपनी किचन का हिस्सा बना लें। इसमें मौजूद विटामिन जैसे थियामाइन, फोलेट व नियासिन शरीर के मेटाबाल्जिम को बढ़ाते हैं।

-पेट के कीड़े

पेट में कीड़ों की वजह से अगर भूख लगनी बंद हो गई हो तो खाने में सरसों का तेल इस्तेमाल करें, ये हमारे पेट में ऐपेटाइज़र का काम करेगा और भूख बढ़ेगी।

-चेहरे की झुर्रियां

सरसों के तेल में मौजूद एंटी ऑक्सिडेंट त्वचा को कसते हैं जिससे त्वचा जवान बनी रहती है। इसमें मौजूद विटामिन ए, सी और के चेहरे पर झुर्रियों को आने से रोकते हैं। यानी आप लंबे समय तक जवां बने रहेंगे।

-कैंसर

आपको शायद जानकारी न हो लेकिन सरसों के तेल में मौजूद ग्लुकोजिलोलेट शरीर में कैंसर और ट्यूमर की गांठ बनने से रोकता है।

-दांतों में दर्द

दांतों में दर्द और पायरिया होने पर सरसों के तेल में नमक मिलाकर उंगली से इसकी दांतों पर मालिश करनी चाहि। दांत मजबूत होंगे और पायरिया जड़ से खत्म हो जाएगा।

बाल

सिर धोने से पहले सिर पर अच्छे से सरसों के तेल की मालिश कीजिए, इससे ब्लड सर्कुलेशन बढ़ेगा। सरसों के तेल की मालिश से भूरे बाल काले होने शुरू हो जाते हैं।

-सर्दी

अगर आप अस्थमा से परेशान हैं तो रोज सरसों का तेल इस्तेमाल करें। इसमें मौजूद मैग्नीशियम अस्थमा को कमजोर करता है। अगर आपको सर्दी ज्यादा लगती हैं तो छाती पर रोज हलका गुनगुना तेल लगाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here