टोपी पहनकर ट्रेन पर पत्थर फेंक रहे भाजपा कार्यकर्ता समेत पांच गिरफ़्तार

मुर्शिदाबाद पुलिस ने बताया कि राधामाधबतला गांव के कुछ लोगों ने सियालदाह-लालगोला लाइन पर जा रहे एक रेल इंजन पर लुंगी-टोपी पहने कुछ लड़कों को पत्थर फेंकते देखा और पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. इनमें एक स्थानीय भाजपा कार्यकर्ता भी शामिल है.

मुर्शिदाबाद पुलिस ने एक स्थानीय भाजपा कार्यकर्ता और उनके पांच साथियों को हिरासत में लिया है, जो लुंगी और टोपी पहनकर ट्रेन पर पत्थर फेंक रहे थे.

द टेलीग्राफ की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने बताया कि स्थानीय लोगों ने उन्हें कथित तौर पर ट्रेन पर पत्थर फेंकते हुए पकड़ा था.

मुर्शिदाबाद पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि राधामाधबतला गांव के लोगों ने सियालदाह-लालगोला लाइन पर जा रहे एक ट्रायल इंजन पर छह लड़कों को पत्थर फेंकते देखा और इन्हें पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. उन्होंने बताया कि इन छह लोगों में एक स्थानीय भाजपा कार्यकर्ता अभिषेक सरकार भी शामिल हैं.

मुर्शिदाबाद के जिला पुलिस प्रमुख मुकेश ने बताया, ‘इन लड़कों ने दावा किया कि वे अपने यूट्यूब चैनल के लिए बनाए जा रहे वीडियो के लिए लुंगी और टोपी पहनकर शूटिंग कर रहे थे. लेकिन ऐसा कोई यूट्यूब चैनल है, यह वे यह प्रमाणित नहीं कर पाए.’

राधामाधबतला के लोगों के अनुसार अभिषेक पड़ोस के श्रीशनगर का रहने वाला है और भाजपा की सभी स्थानीय रैलियों में आगे रहता है.

गुरुवार को एक ग्रामीण ने बताया, ‘हमें तब शक हुआ जब हमने रेलवे लाइन के किनारे इन लड़कों को कपड़े बदलते देखा. हम अभिषेक को जानते थे क्योंकि वो यहां काफी मुखर रहता है. तो हमने सोचा कि उनसे आमने-सामने बात करते हैं.’

सूत्रों के अनुसार इस समूह में एक सातवां सदस्य भी था, जो ग्रमीणों के टोकने पर भाग गया. गुरुवार को बेहरामपुर थाने में इन सभी छह लोगों से पूछताछ की गयी.

स्थानीय भाजपा सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि अभिषेक पार्टी कार्यकर्ता है लेकिन भाजपा जिला अध्यक्ष गौरीशंकर घोष का कहा कहना है की ऐसा नहीं है. उन्होंने कहा, ‘वह हमारी पार्टी का सदस्य नहीं है. राधामाधबतला में जो हुआ, हम उस बारे में कुछ नहीं जानते.’

गुरुवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बिना इस घटना का जिक्र किये कहा था कि भाजपा अपने कार्यकर्ताओं के लिए टोपियां खरीद रही है जिससे वे इसे पहनकर हिंसा करें और इल्जाम विशेष समुदाय पर आए.

उन्होंने कहा था, ‘भाजपा के जाल में मत फंसना. वे इसे पूरी तरह से हिंदू-मुस्लिम की लड़ाई में बदलने की कोशिश कर रहे हैं, जबकि ऐसा कुछ नहीं है… हमें यह सूचना मिली है कि भाजपा अपने कार्यकर्ताओं के लिए टोपी खरीद रही है. वे… एक समुदाय को बदनाम करने के लिए… इसे पहनकर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाते हुए तस्वीरें खिंचवा रहे हैं, वीडियो बनवा रहे हैं.’

राधामाधबतला के रहने वाले एक स्थानीय ने बताया कि पिछले हफ्ते गांव से गुजरने वाली सियालदाह-लालगोला रेलवे लाइन पर पिछले हफ्ते कुछ तनाव हुआ था. युवकों में हिरासत में लिए जाने की घटना की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा, ‘इस हफ्ते हमने बहुत मुश्किल से शांति बहाल की है और इस तरह के गलत इरादों को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.’

मालूम हो कि देशभर में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं. बीते हफ्ते झारखंड में हुई एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि ये जो आग लगा रहे हैं, ये कौन है उनके कपड़ों से ही पता चल जाता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here