जौनपुर के मसीहा डॉ अब्दुस्सलाम नदवी की याद में अलहिकमा इंटरनेशनल स्कूल में एक इल्मी सेमिनार

0
77

भारत के राज्य उत्तर प्रदेश का प्रसिद्ध जिला जौनपुर, प्राचीन काल से एक महान शिक्षा का केंद्र रहा है। यह महान न्यायविदों, विद्वानों, संतों का घर रहा है। शिक्षा का शहर और जौनपुर का संबंध बहुत पुराना है। जौनपुर शाह इब्राहीम शर्क़ी के ज़माने में विद्वानों का केंद्र बन गया था, प्रमुख विद्वानों के ख़ानक़ाह और शिक्षा संस्थान स्थापित किए गए थे, इसलिए मुगल राजा और औरंगजेब रहमतुल्लाह अलैहि ने उन्हें शीराज़ हिन्द का खिताब दिया।
सेमिनार में सभी लोग महान व्यक्तित्व का ज़िक्र करने के लिए जुटे थे। वह डॉ. अब्दुस्सलाम साहिब नदवी थे , जिन्होंने अपने जीवन के माध्यम से जीवन और मानवता की सेवा करने का बेडा उठा रखा था।
हजारों साल नरगिस अपनी बे नूरी पे रोती रही
बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदा वर पैदा
 डॉ. अब्दुस्सलाम साहब का जन्म 5 जनवरी 1950 को महला ख्वाजगी टोला शहर जौनपुर में हुआ था।
मौलाना ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद, उच्च शिक्षा के लिए दारुल उलूम नदवतुल उलेमा चले गए।
नदवा की शिक्षा से स्नातक करने के बाद, उन्होंने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में मेडिकल कॉलेज से डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की।
डॉ. साहब की विशेषता जो उन्हें शोहरत तक ले आई, वह यह है कि उनकी विशेषता गरीबों की मदद करना, और मानवता के दर्द और पीड़ा को साझा करना और उनकी सेवा करना था। और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि डॉक्टर साहब की यह सेवा धर्म की बुनियाद से ऊपर उठ कर मानवता के आधार पर थी, डॉ. अब्दुस्सलाम साहब इस रास्ते में हमारे लिए मानवता और सेवा का एक अच्छा उदाहरण हैं। डॉ. अब्दुस्सलाम साहब की याद में एक भव्य सेमिनार का आयोजन अल हिकमा इंटरनेशनल स्कूल में किया गया, ताकि हम अपने भीतर उन सभी गुणों का सृजन करें जिन्होंने डॉ. साहब को एक विख्यात शख्शियत बनाया।
लेखक का स्वाद: डॉ। साहब भी संलेखन और संकलन का साफ-सुथरा मजाक था। डॉ. अब्दुस्सलाम साहब की कुछ पुस्तकें आई हैं, जिनमें से “कश्कोल सलाम ” लोकप्रिय है।
कई दिनों की बीमारी के बाद 24 अक्टूबर, 2019 को लखनऊ के सहारा अस्पताल में डॉ साहब का निधन हो गया।

सेमिनार में उपस्थित सभी वक्ताओं ने उनके जीवन पर रौशनी डाली और उनकी अच्छाइयो को अपने अंदर लाना चाहिए और मानवता की सेवा करनी चाहिए जैसा डॉ. अब्दुस्सलाम साहब ने अपने जीवन में बिना किसी फ़ायदा नुकसान के लोगो की सेवा की।
इस सेमिनार की अध्यक्षता हज़रत मौलाना तौफ़ीक़ अहमद साहिब क़ासमी नाज़िम जामिया हुसैनिया लाल दरवाजा जौनपुर।
उपस्थित लोगो को धन्यवाद डॉ. आसिफ नदीम साहिब उत्तराधिकारी, डॉ. अब्दुल सलाम साहिब नदवी ने दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here