कैसे दुनिया के महान बॉक्सर Cassius Marcellus Clay, Jr मोहम्मद अली बन गए…पढ़िए और जानिए

0
700

सर्वकालिक महान मुक्केबाजों में गिने जाने वाले मोहम्मद अली के मुसलिम बनने के बारे में नए दावे किए गये है। मोहम्मद अली का जन्म17 जनवरी 1942 मे हुआ। और वे 1964 में मुस्लिम बने थे। मोहम्मद अली की इस जीवनी में दावा किया गया है उनका ईसाई धर्म सो मोहभंग एक कार्टून के कारण हुआ। अली की पत्नी बेलिंडा के कहने पर मुसलिम बने थे। वह कहती है कि वो सारी शालीनता भूल चुका था। वो भगवान की तरह बरताव करता था। मैंने उसे कहा कि तुम खुद को सबसे महान कह सकते हो परंतु कभी अल्लाह से महान नहीं हो सकते। मोहम्मद अली की जीवनी “अली” के लेखक जोनाथन ईग ने वाशिंगटन पोस्ट में लिखी रिपोर्ट के अनुसार इस बहस के बाद ही मेलिंडा ने अली से इस बदलाव की वजह को लिखने के लिए कहा था। वे अब खलिहा कामाचो-अली नाम से जानी जाती हैं।

अली का मूल नाम कैसियस क्ले जूनियर था। मेलिंडा के दिए लेख में अली ने बताया है कि वो किशोरवय के थे, तब वो लड़कियों के पीछे इधर-उधर घूमा करते थे और ऐसे ही एक आदमी को एक दिन उन्होंने सड़क पर “नेशन ऑफ इस्लाम” अखबार बेचते हुए देखा था। अली ने नेशन ऑफ इस्लाम संगठन के नेता एलिजा मोहम्मद के भाषण भी सुने थे लेकिन उन्होंने कभी उसमें शामिल होने के बारे में गंभीरता से नहीं सोचा था। अली के अनुसार इस अखबार में छपे एक कार्टून ने उनका ध्यान सबसे ज्यादा खींचा था। कार्टून में एक गोरा एक काले व्यक्ति को पीट रहा था और उससे ईसा मसीह की प्रार्थना करने को कह रहा था। और लिखा है की “मुझे कार्टून पसंद आया। इसने मुझ पर असर किया। वो मुझे सही लगा।”

जोनाथन के अनुसार अली ने अपने लेख में माना है कि उनकी आध्यात्मिक यात्रा सुंदर लड़कियों की तलाश और एक अखबारी कार्टून से चालू हुई थी। कार्टून देखकर अली को महसूस हुआ कि वो स्वेच्छा से ईसाई नहीं हैं और न ही उनका नाम उनका चुना हुआ है। अली को लगा कि उनका ईसाई होना गोरों की गुलामी का प्रतीक है। इसलिए वो ईसाई धर्म को छोड़ना चाहते थे। एलीजा मोहम्मद की म्रत्यु के बाद ही अली ने आधिकारिक तौर पर इस्लाम स्वीकार किया। मुक्केबाजी से संन्यास लेने के बाद भी अली कुरान और बाइबिल के तुलानत्मक चर्चा पसंद किया करते थे। उन कादेहांत तीन जून 2016 को हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here