कंस हैं पद्मावती का नाजायज पुत्र

0
220

भगवन श्री कृष्ण और कंस की लीलाओं से तो लिहाजा सभी वाकिफ होंगे। इनकी लीलाओं के कई ऐसे रोचक भाग हैं जो बेहद ही अद्भुत हैं लेकिन कुछ ऐसी कहानियां हैं जिनके बारे मैं शायद आप नहीं जानते होंगे। जी हाँ , आज हम बात कर रहे हैं कंस और उसके पिता के बारे मैं। ये तो सब जानते हैं की कंस के पिता महाराज उग्रसेन थे किन्तु क्या आप ये जानते हैं की महाराज उनके असली पिता थे या नहीं। क्या आप जानते हैं की कंस देवकी का सगा भाई था या नहीं।

जी हाँ , ज़रा गौर से सोचिये क्या कोई भाई अपनी ही बहन के पुत्रों को इतनी निर्दयीता से पत्थर पर फेंक कर मरेगा और वो भी एक नहीं , दो नहीं बल्की सभी 6 पुत्रों को कैसे मर सकता हैं कंस ने देवकी के पुत्रों के चलते गोकुल मैं जन्मे सभी नवजात शिशुओं को मरवा दिया था। चलिए कोई बात नहीं , हम आपको बताते हैं कंस के जन्म की पूरी सच्चाई ।

दरअसल विवाह के बाद कंस की माँ पद्मावती कुछ समय के लिए अपने मायके गई थी।तथा उन दिनों पद्मावती के पिता सत्यकेतु के यहाँ कुबेर के दूत राक्षस दुर्मिल का बहुत आना जाना था। राक्षस ने जब पद्मावती को देखा तो वह उस पर अपना दिल हार बैठा और वो उग्रसेन का भेस बदलकर पद्मावती के पास पहुंचा और उससे सम्बन्ध बनाने को कहा। पद्मावती ने यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया।जिस प्रकार पद्मावती ने कंस को अपने गर्भ मैं धारण किया। इस प्रकार कंस एक राक्षस था न की कोई विद्वान् मनुष्य।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here