एक नवजात बेटे ने किया अपने शहीद पिता का अंतिमसंस्कार, लोग ये देख फूट फूट कर रोये …..

0
531

पिता का साया सर से उठ जाना समझो एक भगवन का घर से चले जाना हैं। आज हम आपको एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे देखकर आप भी भावुक हो जाएंगे। घटना सीकर के नाथूसर गांव की हैं|छत्तीसगढ़ के कांकेर में नक्सलियों के साथ हुई मुठ भेद में शहीद हुए लोकेन्द्र सिंह को सोमवार के दिन सीकर में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। बता दें की उनके छोटे बेटे ने उनकी चिता को अग्नि दी। उनके बेटे की उम्र महज 6 साल हैं। लेकिन इस वक्त सब की आंखे और भी ज्यादा नम थी।

बताया जाता हैं की 15 जुलाई को कांकेर में बीएसएफ के जवानों और नक्सलियों के बीच जोरदार मुठभेड़ हुई थी। जिसमें दो जवान शहीद हुए थे , और एक जवान गंभीर रूप से घायल हुआ था। उन्ही में से लोकेन्द्र भी शामिल था, लोकेन्द्र का शव सोमवार को सुबह 10 बजे उसके घर पहुँचाया गया था। कांकेर पुलिस अधीक्षक के. एल ध्रुव ने जानकारी देते हुए कहा हैं की प्रतापपुर थाना क्षेत्र के ग्राम मोहल्ला केम्प की 114 बटालियन सीमा सुरक्षा बल के जवान गस्ती से लौट रहे थे ,तभी नक्सलियों ने विस्फोट कर गोलाबारी शुरू कर दी। इस पर हमारे जवानो ने जवाबी गोलाबारी की। दोनों ओर से कारीब एक घंटे तक गोलाबारी होती रही जिसमें दो जवान शहीद हो गए ओर एक घायल हो गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here