एएमयू : प्रॉक्टर दफ्तर के कर्मचारी ने बांटे उपद्रवियों को कारतूस

0
2763

अलीगढ़ : अगर ये आरोप सच है तो मामला बेहद गंभीर है। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों का आरोप है कि 23 अप्रैल को हुए बवाल में प्रॉक्टोरियल टीम के एक कर्मचारी ने उपद्रवियों की मदद की थी। छात्रों ने मंगलवार को सह कुलपति को इसके फुटेज भी दिखाए। यहां तक आरोप लगाए कि उपद्रवियों को कारतूस बांटे गए। छात्रों ने यह भी कहा कि कैंपस में कुछ होता है तो उसके लिए कुलपति जिम्मेदार होंगे।

वरिष्ठ छात्र शहंशाह की अगुवाई में छात्रों ने पहले प्रशासनिक भवन का घेराव किया। यहां से प्रॉक्टर प्रो. एम. मोहसिन खान दस छात्रों को लेकर सह कुलपति एस अहमद अली के पास पहुंचे। छात्र अपने साथ लैपटॉप भी ले गए, जिसमें बवाल के फुटेज थे। शहंशाह ने बताया कि प्रॉक्टर कार्यालय में तैनात एक कर्मचारी ने उपद्रवियों की मदद की, फुटेज में वह उपद्रवियों को कुछ देते दिखाई दे रहा है, संभवत वह कारतूस हैं। सहकुलपति से मांग की है कि उसे नौकरी से निकाला जाए। फुटेज में कई और छात्र दिख रहे हैं, उन्हें भी निलंबित किया जाए। शहंशाह ने बताया कि बवाल के एक आरोपी की एएमयू में कैंटीन चल रही है। उसे बंद कराने व हॉस्टल में बाहरी युवकों के प्रतिबंध की मांग भी रखी गई। छात्र ने बताया कि सीबीआइ जांच की मांग को लेकर गुरुवार शाम को 5:30 बजे कैंपस में मार्च निकाला जाएगा।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

दो को नौकरी से हटाया

एएमयू पीआर सलाहकार डॉ. राहत अबरार ने बताया कि कुछ आरोपों के चलते इंतजामिया ने प्रॉक्टर कार्यालय में तैनात फारुख व मौलाना आजाद लाइब्रेरी में तैनात सहरोज को नौकरी से निकाल दिया गया है। छात्रों ने सह कुलपति को लैपटॉप में कुछ फुटेज दिखाए हैं, उसमें कारतूस वाली बात है या नहीं, इसकी मुझे जानकारी नहीं है। सहरोज को यूनिवर्सिटी ने मकान भी दिया है, उसे भी खाली कराया जा रहा है। घटना वाली रात से वह गायब है।

पूर्व प्रॉक्टर प्रो. आसिफ के समय हुई थी तैनाती

पूर्व प्रॉक्टर प्रो. आसिफ खान के कार्यकाल फारुख व रफीक को रखा गया था। फारुख पर पिछले साल रजिस्ट्रार कार्यालय पर हुई फाय¨रग का आरोप था, जिसमें छात्र सद्दाम व आमिर मिंटो को इंतजामिया ने निलंबित कर दिया था। बाद में निष्कासित कर दिया।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

योजनबद्ध तरीके से हुई हत्या

शहंशाह ने बताया कि जिस तरह से पूर्व छात्र महताब की हत्या की गई है, उससे साफ है कि यह योजनाबद्ध थी। आरोपी घटनास्थल पर महताब को मारने के लिए ही जुटे थे। एक शिक्षक ने घटना वाले दिन उपद्रवियों को गाइड किया था। पुलिस इसकी जांच करे तो सच्चाई सामने आ जाएगी।

विधायकों को नसीहत

एएमयू छात्रों ने उन विधायकों को भी नसीहत दी, जो उपद्रवियों के पक्ष में खड़े नजर आ रहे हैं। शहंशाह ने कहा है कि अगर कोई विधायक उपद्रवियों की पैरवी करता है तो इसकी शिकायत मुख्यमंत्री से की जाएगी।

पांच जून से हॉस्टल खाली करें छात्र : कुलपति

कुलपति जमीरउद्दीन शाह ने मंगलवार को सभी हॉल के प्रोवोस्ट, वार्डन, प्रॉक्टर, डिप्टी प्रॉक्टर, डीएसडब्ल्यू के साथ बैठक कर कहा कि सभी मुस्तैद से रहें। अगर कहीं सूचना मिलती है तो मौके पर पहुंचने में देर न लगाएं। इसके लिए प्रॉक्टर कार्यालय पर एक पीसी वैन तैयार रखने के लिए कहा गया है। कुलपति ने कहा कि पांच जून से अवकाश हो रहा है। छात्र अपने सामान सहित कमरे खाली करें। रिसर्च स्कॉलर भी, अगर किसी को काम है तो वह कैंपस से बाहर रहकर काम पूरे करे।

जागरण

एएमयू छात्र आलमगीर की हत्या में आरोपी शादाब एसटीएफ के हत्थे चढ़ा

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here