अदालत का आदेश, डॉक्टर साफ राइटिंग में लिखें दवा का नाम, नहीं तो…..

0
369
डॉक्टर

दुनियाभर में चाहें किसी भी देश का डॉक्टर हो और चाहें वह नामी हो या उसका क्लीनिक कम चलता हो। मगर, उन सब में एक बात तो आम देखने को मिलती है, उनकी खराब लिखावट। इसके कारण कई बार मरीज गलत दवा ले लेते हैं।

मगर, बांग्लादेश में शायद अब ऐसा नहीं होगा। दरअसल, बांग्लादेश की अदालत ने गंदी राइटिंग में दवा का प्रिस्क्रिप्शन लिखने में प्रतिबंध लगा दिया है। अदालत के इस फैसले की सोशल मीडिया में काफी प्रशंसा हो रही है।

डॉक्टरों को अब या तो अपने नुस्खे कैपिटल यानी बड़े अक्षरों में लिखना होगा या उन्हें टाइप करना होगा। डिप्टी अटॉर्नी जनरल मोखलेसुर रहमान ने बताया कि अदालत ने सोमवार को अपना फैसला जारी किया है।

अदालत ने स्वास्थ्य सचिव को आदेश दिया है उसके फैसले को देश के डॉक्टरों तक पहुंचा दिया जाए। उनसे यह भी कहा गया है कि छह सप्ताह के भीतर स्थिति के सुधार की रिपोर्ट दें।

अदालत ने यह भी कहा कि डॉक्टरों को खासतौर पर किसी ब्रांड की दवा का नाम लिखने की बजाय जेनरिक ड्रग्स के नाम को लिखना चाहिए। वकील मंजिल मोर्शेद ने कहा कि कई मरीज और यहां तक कि कई बार फार्मास्युटिकल्स भी डॉक्टरों की घसीटा राइटिंग में लिखे नुस्खे को नहीं पढ़ पाते हैं।

ऐसे में कई बार मरीज को गलत दवा दे दी जाती है। इससे अनावश्यक रूप से व्यक्ति के पैसों की बर्बादी तो होती ही है, साथ ही कई बार यह उनकी जान के लिए भी खतरा पैदा कर देता है। वकील मंजिल ने ही इस मामले में जनहित याचिका लगाई थी।

ये भी पढ़ें

ट्रंप का वैश्याओं के साथ सेक्स वीडियो, बराक ओबामा के बिस्तर पर

मोदी कहते हैं नोटबंदी से अच्छे दिन आएंगे, मैं कह रहा हूं इसके घातक परिणाम आने बाकी है: मनमोहन सिंह

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here